Shayari

मुझे मत ढूंढो इस जहां की तन्हाई में,
.
.
.
ठंड बहुत है में तो हूँ अपनी रज़ाई में...