Sapne Shayari 4

मीठी-मीठी यादें पलकों में सज़ा लेना,
साथ गुज़रे पल को दिल में बसा लेना,
नज़र ना आऊं दिल में अगर,
मुस्कुरा कर मुझे सपनों में बुला लेना...
कल रात सपने में तेरी तस्वीर बना डाली,
दिल को इतनी अच्छी लगी की सीने से लगा डाली,
फिर सोचा की नज़र ना लग जाए किसी की,
हमने आंसुओं से मिटा डाली...
ज़िन्दगी में कुछ सपने सजा लेना,
वक़्त में कुछ अरमान जगा लेना,
हम आपकी राह से हर दर्द चुरा लेंगें,
आप जब चाहे हमें आजमा लेना...
इन आँखों के सपने चुराया ना करो,
हमारी दोस्ती को यूँ आजमाया ना करो,
तुम्हारी एक हंसी में दिल की धड़कन है,
उन्हें यूँ ना आंसुओं में गवाया करो...
काश ये सपने भी पूरे हो जाएं,
हम भी किसी के सपनों में आ जाएं,
हो हमारा भी जिक्र उनके लब पे,
हम भी उनके दिल में बस जाएं...