Romantic Shayari 7

बनकर तेरा साया तेरा साथ निभाऊंगा,
तुम जहाँ-जहाँ जाओगी में वहाँ-वहाँ आऊँगा,
साया तो छोड़ जाता है साथ अँधेरे में,
लेकिन में अँधेरे में तुम्हारा उजाला बन जाऊँगा...
प्यार क्या है ना पूछो तुम मुझसे,
क्या बताने से मान जाओगी,
यूं बताने से फायदा भी नहीं,
करके देखो तो जान जाओगी...
तुझको देखा रात भर चाँद ने,
और सुबह तेरे चेहरे से मिलने लगा,
एक दिन अक्स तेरा पानी में पड़ा,
वो कमल बनके अब रोज़ खिलने लगा...
मैं नजर से पी रहा हूँ, ये समा बदल ना जाए,
मेरा जाम छूने वाली, तेरा हाथ जल ना जाए..

मेरी ज़िन्दगी के मालिक, मेरे दिल पे हाथ रख दे,
तेरे आने की ख़ुशी में, मेरा दम निकल ना जाए...
मेरे जीने के लिए आपका अरमान ही काफी है,
दिल की कलम से लिखी दासतान ही काफी है,
तीर और तलवार की क्या ज़रूरत है,
कतल करने के लिए आपकी मुस्कान ही काफी है...
बदलना नहीं आता हमें मौसम की तरह,
हर एक रुत में तेरा इंतज़ार करते हैं,
ना तुम समझ सको जिसे कयामत तक,
कसम तुम्हारी तुम्हें इतना प्यार करते हैं...
सुकून है जब उनसे बात होती है,
हज़र रातों में वो एक रात होती है,
निगाह उठाकर जब देखते हैं वो मेरी तरफ,
मेरे लिए वही पल पूरी कायनात होती है...
देखा है जबसे तुमको, मेरा दिल नहीं है काबू में,
जी चाहे आज तोड़ दूं दुनिया की सारी रस्में,
तेरा हाथ चाहता हूँ, तेरा साथ चाहता हूँ,
बाहों में तेरी रहना मैं दिन रात चाहता हूँ...
दिल की हसरत जुबां पे आने लगी,
तुमने देखा और ज़िन्दगी मुस्कुराने लगी,
ये दीवानगी थी या मेरी नज़र का धोखा,
कल आईने में भी आपकी सूरत नज़र आने लगी...
वादा करते हैं दोस्ती निभाएंगे,
कोशिश यही रहेगी तुझे ना सताएंगे,
ज़रूरत पड़े तो दिल से पुकारना,
मर भी रहे होंगे तो मोहलत लेकर आएंगे...