Romantic Shayari 11

ज़रूर किसी ने दिल से पुकारा होगा,
एक बार तो चाँद ने भी आपको निहारा होगा,
मायूस हो गया होगा आसमां के तारे भी उस दिन,
जब ज़मीन पर आपको ख़ुदा ने उतारा होगा...
करीब से आपको देखा तो अपना पाया,
जब आपको प्यार से आज़माया तो अपना पाया,
आपको क्या नाम दूँ समझ नहीं आता,
दोस्त, प्यार या मेरी ज़िन्दगी का साया..
बारिश की बूंदों का आपके होठों से फिसलना,
दिल को घायल कर जाता है,

रेशमी जुल्फों में उनका सरकना,
दिल को बहुत लुभाता है,

लाख कोशिश करता हूँ, लेकिन, हमको चैन कहाँ आता है,
यही तो मौसम है यारों, जब इश्क जवान हो जाता है...
ना ख़्वाबों में देखा, ना नजारों में देखा,
बस हजारों में एक आप ही को देखा,
ग़म देने वाले तो हर क़दम पर हैं यहाँ,
हर पल ख़ुशी देने वालों में एक आपको देखा...
मेरी आँखों में ना देखो नींद चुरा लेंगे,
ना दिल के करीब आओ वरना मोहब्बत सिखा देंगे,
गहरा है आपसे रिश्ता इतना,
ख़्वाबों में भी आए तो अपना बना लेंगे...
मेरे महबूब को जिस दिन, जनाब देखोगे,
होश उड़ जाएंगे जब बेनकाब देखोगे,
नूर पर एक आफ़ताब देखोगे,
रात तो रात रही दिन में भी ख़्वाब देखोगे...
आपने अपनी आँखों में नूर छुपा रखा है,
होश वालों को दीवाना बना रखा है,
नाज़ कैसे ना करूँ आपके प्यार पर,
मुझ जैसे ना चीज़ को ख़ास बना रखा है...
चाँद से की थी गुज़ारिश हमने,
मेरे चाँद से कर मुलाकात कभी,

चाँद भी मुस्कुरा कर ढल गया,
कहा मत कर मुझे शर्मिंदा अभी,

तेरे चाँद को देखकर फिर ना मैं कभी चमक पाऊंगा,
रौशनी तेरे चाँद की है कुछ अलग, शायद मैं खो जाऊँगा...
सांवला रंग तेरा बेहतरीन लगता है,
नज़र को ये तेरा नज़ारा हसीन लगता है,
आते हो जब बाहों में सिमट कर,
तो सारा आलम रंगीन लगता...
सांसों में बसाया तुम को, आँखों में तेरा चेहरा समाया,
देखे कई हसीन चेहरे हमने, पर ये दिल तुम पे आया,
हर एक ख़्वाब को हमने तेरी मोहब्बत से सजा कर,
उसको हमेशा के लिए इस दिल में बसाया...