Shayari

हवाओं सा लहरना है तो,
फैसले का इंतज़ार मत कर,
वतन की आबरू सलामत रहे,
तु अपनी परवाह मत कर...