Love Shayari 21

ज़िन्दगी में हर कदम रहूँगा साथ,
दूर रहकर भी रहूँगा पास,
अगर तमन्ना हो आज़माने की मुझे,
याद करना जब कोई ना हो तुम्हारे पास...
वो करें शिकवा तुम करो शिकायत ये तो प्यार नहीं,
करो कुछ ऐसा की कभी प्यार में कोई गिला ना रहे,
हर ज़ख्म को सह लो हँसकर तुम,
मगर दिल में कोई ग़म ना रहे...
मेरी हर खता पर नाराज़ ना होना,
अपनी प्यारी सी मुस्कान कभी ना खोना,
सुकून मिलता है देखकर आपकी मुस्कुराहट को,
मुझे मौत भी आए तो भी मत रोना...
राज़ दिल का दिल में छुपाते हैं वो,
सामने आते ही नज़र झुकाते हैं वो,
बात करते नहीं, या होती नहीं,
पर शुक्र है जब भी मिलते हैं मुस्कुराते हैं वो...
ज़िंदा है शाहजहाँ की चाहत अब तक,
गवाह है मुमताज़ की उल्फत अब तक,
जाके देखो ताज-महल को ए दोस्तों,
पत्थर से टपकती है मोहब्बत अब तक...
हमसफ़र बहुत हैं मगर कोई भी जचता नहीं,
तेरे सिवा कोई और चेहरा दिल में बस्ता नहीं,

ना भूला हूँ ना भूलूंगा तुम्हें कभी,
मेरे दिल से तेरा नाम कभी मिटता नहीं,

अब कैसे कहूँ की प्यार है कितना तुमसे,
ए-सनम प्यार तुम्हें भी मुझसे कुछ कम नहीं,

तेरे नैन मेरे जाम के प्याले बन गए,
जो बात इन नैनों में है कहीं और नहीं...
प्यार छुपा है दिल में ए-सनम,
लब खुलते-खुलते रूक जाते हैं,
वो मिलना चाहते हैं हमसे ए-खुदा,
पर कदम चलते-चलते रूक जाते हैं...
तेरे लिए मैंने सजाए ख्वाबों में चाँद तारे,
रंगों से भरी समा को रोशन हुए नज़ारे,
ऐसा लगा दिल को कर रहें हैं वो सब भी इशारे,
एक पल में ना जाने कैसे बन गए ग़म सब कुछ हमारे...
उनकी खुशबू बस गई है सांसों में इस कदर,
खोया रहता हूँ मैं हर घड़ी हर पहर,
इतने करीब आए थे वो मेरे दिल के उस पल में,
मेरी मोहब्बत पे होने लगा था एक अजनबी सा असर...
इश्क के मायने हमसे मत पूछो,
हम भी इससे अनजान हैं,
सिर्फ एक गुज़ारिश है कि कभी दूर ना जाना,
क्योंकि आपका इश्क ही हमारी जान है...