Funny Shayari 6

क्या मौसम आया है,
हर तरफ पानी ही पानी लाया है,
एक जादू सा छाया है,
तुम घर से बहार मत निकलना,
वरना लोग कहेंगे बरसात हुई नहीं,
और मेंढक निकल आया है...
यह कैसा तेरा प्यार है जालिम, दिल ना रहा,
सरकारी दफ्तर बन गया है, ना कोई काम करता है,
और ना ही, किसी की बात सुनता है...
तेरी यादों में, कुछ ऐसी बात है,
कि हर वक्त तेरी यादें, हमारे साथ हैं,

दिल चाहता है कि, तुमको तुमसे चुरा लूँ,
पर मम्मी कहती हैं कि, चोरी करना बुरी बात है...
आपको मिस करना रोज़ की बात है,
याद करना आदत की बात है,

आपसे दूर रहना क़यामत की बात है,
मगर आप को झेलना हिम्मत की बात है...
तुम क्या चले गए, बाग से तितलियाँ चली गयीं,
फूल मुरझा गए, पत्ते जलकर राख हुए,

अब और मत सताओ, गार्डन में पानी देना है,
काम पर जल्दी आओ...
आम मीठे, अंगूर खट्ठे,
आम मीठे, अंगूर खट्ठे,
मेरा शेर पढ़ने वाले उल्लू के पट्ठे...
क्या आँखें हैं, क्या बातें हैं,
क्या चेहरा तुमने पाया है,
ऐसा लगता है जैसे,
पीपल के पेड़ से भूत उतरकर आया है...
चाँद पर काली घटा छाती तो होगी,
सितारों को मुस्कुराहट आती तो होगी,
तुम लाख छुपाओ दुनिया से,
मगर अकेले में तुम्हें अपनी शकल पर हँसी आती तो होगी...
मेसेज पे मेसेज भेजते हो,
भेज-भेज के भेजा खराब करते हो,
भेजते हो तो भी क्या भेजते हो,
खुद का भेजा तो चलता नहीं,
दूसरों का भेजा हुआ भेजते हो...
रामचंद्र कह गए सिया से,
ऐसा कलयुग आएगा,
एक दोस्त एक तरफ से मेसेज करेगा,
दूसरा अपना पैसा बचाएगा...