Dua Shayari 1

ख़ुदा की रहमत सारे संसार पे बरसे,
मेरे हिस्से की रहमत मेरी जान पे बरसे,
ए ख़ुदा मुझे बना देना पानी,
अगर कभी मेरी जान प्यास को तरसे...
दिल से निकले दुआ हमारी,
ज़िन्दगी में मिले आपको खुशियाँ सारी,
गम ना दे खुदा आपको कभी,
चाहे तो एक खुशी कम कर दे हमारी...
मेरी चाहत ने उसे बेइन्तहा खुशी देदी,
बदले में उसने मुझे कुछ यूँ खामोशी देदी,
खुदा से जो मांगी दुआ मैंने मरने की,
तो उसने भी कुछ यूँ तड़पने के लिए ज़िन्दगी देदी...
ख़ामोशी में जो सुनोगे वो आवाज हमारी होगी,
ज़िन्दगी भर साथ रहे वो वफा हमारी होगी,
दुनिया की हर खुशी एक दिन तुम्हारी होगी,
क्यूंकि इन सबके पीछे एक दुआ हमारी होगी...
तेरे प्यार ने ज़िन्दगी से पहचान करायी है,
मुझे वो तुफानो से फिर लौटा के लायी है,
बस इतनी ही दुआ करते हैं खुदा से हम,
भुझे ना ये शमा कभी जो हमने जलाई है...
या रब उनको सदा लाज़वाब रखना,
मैं उनसे दूर हूँ उनका ख्याल रखना,
मेरे जब भी हाथ उठे यही दुआ निकली,
उनके गिर्द हमेशा खुशियों का जाल रखना...
जो आए मेरे होंठो पर बनके दुआ आए,
मेरा जिक्र उसके गालों पर बनके ह्या आए,
जो देखा मैंने महकता हुआ कोई गुलाब कहीं,
मेरी आँखों में उसका चेहरा बार-बार आए...
नाराज़ होना आपसे ग़लती कहलाएगी,
आप हुए नाराज़ तो ये साँसे थम जाएंगी,
आप हँसते रहे यहीं ज़िन्दगी भर,
आपकी हंसी से हमारी ज़िन्दगी स्वर जाएंगी...
दुआ है इस दुनिया में आपको कोई गम ना हो,
दुआ है कि आपकी मुस्कान कम ना हो,
अगर आपकी पलकों में आँसु आये तो दुआ है,
कि उसकी वजह हम ना हों...
ना दुआ माँगी ना कोई गुज़ारिश की,
ना कोई फरियाद ना कोई नुमाइश की,
जब भी झुका सर खुदा के आगे,
हमने बस आपकी खुशी की ख़्वाहिश की...