Dosti Shayari 10

यारी का ये सिलसिला निभाए रखना,
दोस्त कहते हो तो दोस्ती बनाए रखना,
जान तो नहीं मांगेंगे आपसे पर,
गुजारिश है कि जान के जाने तक, दोस्ती बनाए रखना...
वो पल भी क्या पल रहा होगा जब,
खुदा आप जैसा दोस्त बना रहा होगा,
खुदा भी परेशान होगा उस वक़्त,
क्योंकि हर कोई आपको पाने के लिए,
खुदा को मना रहा होगा...
दोस्ती गज़ल है गाने के लिए,
दोस्ती नगमा है सुनाने के लिए,
ये वो जज़्बा है जो सबको नहीं मिलता,
क्योंकि हौसला चाहिए,
दोस्ती निभाने के लिए...
रूठी जो ज़िन्दगी तो मना लेंगे हम,
मिले जो गम तो सह लेंगे हम,
चलती रही अगर यूँही हमारी दोस्ती तो,
आसुओं में भी मुस्कुरा लेंगे हम...
इस दिल ने एक बुरी आदत लगा रखी है,
आँखें मोबाइल के इनबॉक्स पे टिका रखी है,
कसूर तो कमबख्त हमारा ही है,
सब 'busy' लोगों से दोस्ती जो बना रखी है...
आसमान हमसे नाराज़ है,
तारों का गुस्सा बेहिसाब है,
लोग हमसे जलते हैं,
क्योंकि चाँद सा प्यार दोस्त हमारे पास है...
दोस्त एक साहिल है तूफानों के लिए,
दोस्त एक आइना है अरमानों के लिए,
दोस्त एक महफ़िल है अंजानो के लिए,
दोस्ती एक ख्वाहिश है आप जैसे दोस्त को पाने के लिए...
खुद पर भरोससा है तो खुदा तेरे साथ है,
अपनों पर भरोसा है तो हर दुआ तेरे साथ है,
ज़िन्दगी से कभी मत हारना मेरे दोस्त,
जब तक तेरा दोस्त तेरे साथ है...
आपकी दोस्ती की एक नज़र चाहिए,
दिल है बेघर उसे एक घर चाहिए,
बस यूंही साथ चलते रहो ए दोस्त,
ये दोस्ती हमें उम्र भर चाहिए...
गुज़रे हुए कल की याद आती है,
कुछ लम्हों से आँखें भर आती है,
वो रंगीन शाम निराली डूब जाती है,
जब आप जैसे दोस्त की याद आती है...