2 Line Shayari Shayari 2

दिल टूटने पर भी जो शख्स आपसे शिकायत तक ना कर सके,
उस शख्स से ज्यादा मोहब्बत आपको कोई और नहीं कर सकता..
टूट जाता है गरीबी में वो रिश्ता जो ख़ास होता है,
हजारों यार बनते हैं जब पैसा पास होता है..
भूल जाना और भुला देना फ़क़त एक वहम है,
दिलों से कब निकलते हैं वो लोग मोहब्बत जिनसे हो जाए..
नहीं करेंगे आज के बाद कभी मन्नतें तुम्हारी,
खुदा जब राज़ी होगा तब तुम तो क्या, हर चीज़ होगी हमारी..
मेरे खुदा मुझे लाखों में छांट के दे दे,
एक ऐसा इंसान जो काँटों पे भी साथ चलता हो..
रोते हैं तन्हा देखकर मुझको वो रास्ते,
जिन पे तेरे बगैर मैं गुज़रा कभी ना था..
बहुत खफा थे कि लहजा बदल गया मेरा,
उन्ही के लहजे में उनसे जब बात की मैंने..
सीख जाओ वक्त पर किसी की चाहत की कदर करना,
कहीं कोई थक ना जाए तुम्हें एहसास दिलाते-दिलाते
स्कूल का वो बस्ता, मुझे फिर से थमा दे माँ,
यह ज़िन्दगी का सफ़र, मुझे बड़ा मुश्किल लगता है..
तूने अंदाज़-ए-मोहब्बत देखा है अंदाज़-ए-वफा नहीं,
पिंजरे खुल भी जाए तो कुछ परिंदे जाया नहीं करते..